क्या है '5 जून', 'विश्व पर्यावरण दिवस', 'थीम', 'इतिहास' और इसका 'महत्त्व'?

Reported by lokpal report

04 Jun 2020

264

 


नई दिल्ली: एक तरफ जहाँ पूरी दुनिया एक साथ कोरोना महामारी से जूझ रही है वहीं पर्यावरण को थोड़ा फायदा हुआ लगता है। ऐसा लगता है कि जैसे प्रकृति खुद को रिफ्रेश करने की ठान रखी हो। मानवों की तमाम प्रदूषणकारी गतिविधियों में कमी आने के चलते पर्यावरण साफ़ हुआ है। जिस हवा में हम सांस लेते हैं, जो पानी हम पीते हैं, सूर्य की किरणें जो हम तक पहुंचती हैं, और जो भोजन हम प्रतिदिन ग्रहण करते हैं, वे सभी पर्यावरण से उपहार हैं, और इस तरह, यह महत्वपूर्ण है कि उनका सम्मान किया जाए, उनके मूल्यों को समझा जाए। 

विश्व पर्यावरण दिवस हर साल 5 जून को मनाया जाता है, ताकि लोगों को प्रकृति द्वारा दिए गए तोहफों के प्रति जागरूक किया जाए। यह लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा चलाए जा रहे दुनिया के सबसे बड़े वार्षिक कार्यक्रमों में से एक है। 5 जून को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 1972 में संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के पहले दिन मानव पर्यावरण के रूप में हर साल मनाने के लिए शुरू किया किया गया था।

इस साल विश्व पर्यावरण दिवस 2020 की थीम है 'सेलिब्रेट बायोडायवर्सिटी'  जिसे इसे जर्मनी के साथ साझेदारी में कोलंबिया में आयोजित किया जाएगा। यह विषय अत्यंत प्रासंगिक है क्योंकि मानव पारिस्थितिकी तंत्र का हिस्सा है और इससे अलग इसका कोई अस्तित्व नहीं है। सभी सजीव चाहे वह छोटा हो या बड़ा, भूमि पर हो या जल में, उसके लिए जैव विविधता महत्वपूर्ण है। 

पिछले वर्ष का विषय था 'वायु प्रदूषण । आप 5 जून को अपना काम दूसरे लोगों को शिक्षित करके और कुछ जीवनशैली में बदलाव लाकर भी कर सकते हैं, ताकि पर्यावरण पर कम बोझ पड़े।

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# world environment day # world environment day 2020 # public lokpal # plnews