जयप्रदा पर अमर्यादित टिप्पणी के खिलाफ आज़म खान पर दर्ज हुआ एफआईआर

Reported by lokpal report

15 Apr 2019

49

 


लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव व रामपुर से पार्टी प्रत्याशी आजम खान के खिलाफ आज एक प्राथमिकी दर्ज की गई है।कल संसदीय क्षेत्र के शाहाबाद में आयोजित एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए आज़म खान ने अपनी भाजपा प्रतिद्वंदी जयप्रदा के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की  ई एक प्रथम सूचना रिपोर्ट या एफआईआर दर्ज की गई है, क्योंकि उन्होंने चुनाव के दौरान अपने भाजपा प्रतिद्वंद्वी जया प्रदा के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उनपर एक महिला के मानहनन का मामला दर्ज किया गया है।

प्राथमिकी के बाद आज़म खान ने आज कहा कि अगर उनका गुनाह साबित हो जाता है तो वह चुनाव नहीं लड़ेंगे। सपा नेता ने अपनी टिप्पणी से उपजी नाराजगी और मिल रही निंदा के बाद कहा, "दोषी साबित होने पर मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा ।।। मैंने किसी का नाम नहीं लिया या अपमान किया है और मुझे पता है कि मुझे क्या कहना चाहिए।" उन्होंने कहा कि "मैं रामपुर से नौ बार का विधायक रह चुका हूँ और मंत्री भी 
रहा हूं। मुझे पता है कि क्या कहना है"। उन्होंने दावा किया कि उनके शब्द जया प्रदा के खिलाफ नहीं थे क्योंकि उन्होंने कभी उनका नाम नहीं लिया।

आज़म खान ने दावा किया कि उन्होंने एक "आदमी" के संबंध में यह टिप्पणी की, जिसने स्पष्ट रूप से कहा था कि "वह अपने साथ 150 राइफलें लाया था" और अगर वह आज़म खान को देखता, तो वह उसे गोली मार देता। आज़म खान ने कहा कि उन्होंने बिना नाम लिए उसका जिक्र किया और कहा कि "अब, यह पता चला है कि उनके अंडरवियर का रंग खाकी है। बता दें कि आरएसएस के सदस्य खाकी रंग की पैंट पहनते हैं।"

सपा नेता ने रविवार को रैली में कहा था कि: "मैं आपसे यह सवाल करता हूँ कि क्या राजनीति इतनी गिर जाएगी?  10 बरस जिसने रामपुर वालों का खून पिया, लहू पिया, जिसकी उंगली पकड़कर हम रामपुर में लेकर आए। रामपुर की गलियां, रामपुर की सड़कों की पहचान कराई। किसी का कन्धा नहीं लगने दिया उनके शरीर से,आप गवाही दोगे। कन्धा नहीं लगने दिया, छूने नहीं दिया। गन्दी बात नहीं करने दी। आपने 10 साल अपना प्रतिनिधित्व कराया।  शाहाबाद वालों! रामपुर वालों! उत्तर प्रदेश वालों ! हिन्दोस्तान वालों! उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लगे, मैं 17 दिन में पहचान गया था कि इनके नीचे का जो अंडरवियर है वह खाकी रंग का है। मैं 17 दिन में पहचान गया था"।  

वहीं जयाप्रदा ने दावा किया, "मैंने मुलायम सिंह जी से कहा कि रामपुर में मुझे बदनाम किया जा रहा है, मुझे बचाओ। लेकिन किसी भी राजनेता ने मुझे बचाने की कोशिश नहीं की।" उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि "मैंने रामपुर और सक्रिय राजनीति को छोड़ दिया क्योंकि उन्होंने मुझ पर तेजाब से हमला करने की कोशिश की।" उन्होंने कहा कि "पहली बार, भाजपा ने मुझे ताकत दी। मैं पहले की तरह रोना नहीं चाहती। मुझे जीने का अधिकार है, और मैं आपकी सेवा करूंगी।"

जयाप्रदा ने 2004 और 2009 में रामपुर लोकसभा सीट जीती थी, लेकिन 2010 में कथित पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए उन्हें निष्कासित कर दिया गया था। वह पिछले महीने भाजपा में शामिल हुई थीं और उन्हें समाजवादी के आजम खान के खिलाफ रामपुर के लिए पार्टी का उम्मीदवार बनाया गया था।

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# azam khan # jayprada # azam khan vs jayprada # general elections 2019 # public lokpal # plnews