आखिर क्या है तमिलनाडु सरकार की नींदें हराम कर देने वाला गुटका घोटाला मामला?

Reported by lokpal report

05 Sep 2018

176

 
नई दिल्ली: करोड़ों के गुटका घोटाले में केंद्रीय जांच ब्यूरो यानी सीबीआई ने आज सुबह तमिलनाडु में लगभग 40 स्थानों पर छापे मारे  जिसमें राज्य के स्वास्थ्य मंत्री सी विजयबास्कर और पुलिस महानिदेशक, टीके राजेंद्रन के घर तक शामिल हैं.  पूर्व पुलिस आयुक्त एस जॉर्ज समेत स्वास्थ्य, खाद्य सुरक्षा और पुलिस विभागों के कई अन्य सरकारी अधिकारी गुटका की अवैध बिक्री में शामिल होने के कारण सीबीआई की जाँच के दायरे में हैं.

2013 में, तमिलनाडु सरकार द्वारा गुटका और पान मसाला सहित तम्बाकू चबाने वाले अन्य प्रारूपों के निर्माण, भंडारण और बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।.फिर भी यह पूरे राज्य में अवैध रूप से बिकना जारी रहा.

क्या है गुटका घोटाला ?

लगभग 250 करोड़ रुपये का गुटका घोटाला पहली बार जुलाई 2016 में तब सामने आया जब आयकर जांचकर्ताओं ने तमिलनाडु स्थित तंबाकू व्यापारियों के गोदामों, कार्यालयों और निवासियों पर छापे मारे.

पान मसाला और गुटका निर्माता माधव राव के घर पर छापे के दौरान, आयकर विभाग ने एक डायरी जब्त की जिसमें राजनेताओं और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के नामों की एक सूची मिली, जिन्हे गुटका व्यापारियों द्वारा रिश्वत दी गई थी. द्रमुक विधायक जे अंबाजगन की याचिका के बाद मद्रास उच्च न्यायालय ने अप्रैल में इस मामले को सीबीआई को दे दिया था. 

मई में, सीबीआई ने तमिलनाडु सरकार, केंद्रीय उत्पाद शुल्क विभाग और खाद्य सुरक्षा विभाग के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी.

विपक्षी डीएमके इस मामले में उचित जांच के लिए स्वास्थ्य मंत्री और पुलिस अधिकारियों को बर्खास्त करने की मांग कर रहा है.

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# gutka scam # tamilnadu gutka scam # public lokpal # plnews