अमृतसर ट्रेन हादसा : 'लोगों को दस बार कहा गया-ट्रैक पर खड़े न हो'!

Reported by lokpal report

22 Oct 2018

69

 

 
नई दिल्ली: अमृतसर के धोबी घाट में दशहरा कार्यक्रम के आयोजकों में से एक सौरभ मदन उर्फ मिठू, ने एक वीडियो जारी करते हुए सफाई दी है कि उनकी कोई गलती नहीं है. दशहरे पर अमृतसर में ट्रेन हादसे, जहां 61 लोग मारे गए थे, में दशहरा मेला आयोजकों को लगातार निशाने पर लिया जाता रहा है. इस पर सौरभ मदन का कहना है कि 'व्यक्तिगत शत्रुता' के कारण उसे हादसे का दोषी ठहराया जा रहा है. मदन ने दावा किया है कि 10 से अधिक बार मंच से घोषणा करवाया गया कि लोग रेल पटरियों पर खड़े न हों. 

एक मिनट के लंबे वीडियो में, मदन यह दावा करते हैं कि उनकी तरफ से कोई चूक नहीं थी.

मुख्य आयोजकों में से पार्षद विजय मदन और उसका बेटा सौरभ शुक्रवार को परिवार के अन्य सदस्यों के साथ भूमिगत हो गए हैं. गौरतलब है कि दुर्घटना होने के बाद भीड़ ने उनके घर पर हमला बोल दिया था. खिड़की तोड़ दी गई थी और पत्थर फेंके गए थे.

मदन ने वीडियो में दावा किया है कि "मैंने सभी लोगों एक साथ लाने के लिए समारोह का आयोजन किया था. हमने सभी अनुमतियां लीं ... हमारे पास रावण प्रतिमा के चारों ओर 20 फीट की जगह थी. मेरी तरफ से कोई चूक नहीं थी, हमारे पास साइट पर 100 पुलिसकर्मी थे, अग्नि शामक वाहन व पानी टैंकर्स इस जगह पर मौजूद थे. कार्यक्रम धोबी घाट जमीन की सीमा के भीतर आयोजित किया गया था, न कि रेलवे लाइनों पर ... हमने रेलवे लाइनों पर कुर्सियां ​​नहीं रखीं". ट्रेन अचानक आई .. यह किस्मत में लिखा गया था. हमने पहले ही 7-10 घोषणाएं की थीं कि लोगों को रेलवे लाइनों पर खड़े न होने दें''. 

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# amritsar train tragedy # dussehra # public lokpal # plnews