उन्नाव रेप और हत्या मामला: 'न्याय' के आश्वासन पर दफनाया गया पीड़िता का शव 

Reported by lokpal report

08 Dec 2019

124

 


उन्नाव: उन्नाव बलात्कार और हत्या पीड़िता के शव को रविवार को उसके पैतृक गांव में अंतिम संस्कार किया गया। गांव में पीड़िता द्वारा अन्याय के खिलाफ लड़ी गई लड़ाई की याद में स्मारक बनाने के आश्वासन के बाद उसे रविवार दोपहर को दफनाया गया। पीडि़त परिवार को 24X7 सुरक्षा और उसकी बहन को नौकरी देने के आश्वासन के बाद शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया। पीड़िता के भाई को आत्मरक्षा के लिए हथियार रखने का लाइसेंस भी दिया जाएगा। 

इससे पहले, उन्नाव बलात्कार पीड़िता के परिवार ने कहा था कि वे तब तक अंतिम संस्कार नहीं करेंगे, जब तक कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गाँव नहीं आते हैं और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आश्वासन नहीं देते हैं। लखनऊ मंडल के आयुक्त मुकेश मेश्राम और अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ बातचीत के बाद परिवार के लोग उसका अंतिम संस्कार करने के लिए तैयार हुए।

इससे पहले घटना के बारे में जायजा लेने पीड़िता के घर पहुंचे इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स आर्गेनाईजेशन (IHRO)के सदस्यों से बात करते हुए पीड़िता की बहन ने खुलासा किया कि पीड़िता जो उनकी छोटी बहन थी, का अंतिम संस्कार करने के लिए उनके परिवार पर दबाव बनाया जा रहा है। पीड़िता की बहन ने कहा कि अभियुक्तों में ग्राम प्रधान का बेटा और पति शामिल है, इसलिए वे अपने दबदबे का इस्तेमाल कर मामले को प्रभावित कर सकते हैं। पीड़िता की बहन ने मांग की है कि ग्राम प्रधान को तत्काल पदमुक्त किया जाए जिससे मामले की निष्पक्ष जाँच हो और उनकी बहन को इंसाफ मिले। IHRO की प्रदेश अध्यक्ष शिल्पी चौधरी और उनकी टीम ने पीड़िता के परिवार को आश्वासन दिया है कि अगर जरुरत पड़ी तो वह उनके साथ मुख्यमंत्री से मुलाकात करेंगी और न्याय की मांग करेंगी। 

बता दें कि गंभीर रूप से जलने से घायल बलात्कार पीड़िता शुक्रवार रात दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में निधन हो गया शव शनिवार को उसके पैतृक गांव पहुंचा था। 23 वर्षीय बलात्कार की शिकार महिला 90 प्रतिशत जलने के बाद दिल्ली ले जाया गया और सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया। महिला को उसके कथित बलात्कारियों में से दो सहित पांच लोगों ने गुरुवार सुबह उसे जलाकर मारने की कोशिश तब की जब वह अदालत में की सुनवाई के लिए रायबरेली जा रही थी।
घटना के बाद प्रदेश की सियासत महिला सुरक्षा के नाम पर गरमा गई है और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव जहाँ सांकेतिक धरने पर बैठे वहीं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह लल्लू जेल भी गए। सपा के तमाम कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने मामले भी दर्ज किये हैं।

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# yogi adityanath # unnao rape case # shilpi chaudhary # public lokpal # plnews