आज पीएम ने जिस एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया, क्या वह सच में अधूरा है?

Reported by lokpal report

19 Nov 2018

52

 


नई दिल्ली: प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को गुरुग्राम में कुंडली-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया. प्रधान मंत्री ने एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करते हुए पिछली सरकारों से एक्सप्रेसवे बनाने में हुई देरी पर सवाल उठाया. जवाब में कांग्रेस ने राज्य व केंद्र सरकार के इरादों पर प्रश्नचिन्ह लगाते हुए कहा कि एक्सप्रेसवे अभी अधूरा है और सरकार ने अगले साल होने वाले आम चुनावों का फायदा लेने के लिए इसका उद्घाटन कर दिया है.

इस एक्‍सप्रेस वे के जरिये लोग 90 मिनट में पलवल से कुंडली जा सकेंगे. इसके जरिये दिल्‍ली के बाहर होते हुए वाहनों को निकाला जा सकेगा. कहा जा रहा है कि इससे दिल्‍ली के प्रदूषण से लड़ने में मदद मिलेगी. वहीं बल्‍लभगढ़ मेट्रो स्‍टेशन से लोग मेट्रो के जरिये सीधे कश्‍मीरी गेट मेट्रो स्‍टेशन जा सकेंगे.

एक्सप्रेसवे चार राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 1, 10, 8 और 2 सोनीपत, झज्जर, गुरुग्राम, मेवाट और पलवल जिलों से होकर गुजरता है. इस एक्सप्रेसवे से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की यातायात भीड़ को कम किया जा सकता है.

यह उत्तरी हरियाणा को गुरुग्राम, फरीदाबाद और पलवल जैसे दक्षिणी जिलों के साथ उच्च गति लिंक प्रदान करेगा. इस एक्सप्रेसवे को लेकर, उत्तर भारत से यात्रा करने वाले लोगों को एनसीआर से गुज़रने की आवश्यकता नहीं होगी. डी-कंजेशन भी एनसीआर में प्रदूषण को कम करेगा.

परियोजना शुरू में 2006 में शुरू हुई थी और इसे बिल्ट-ऑपरेट-ट्रांसफर (बीओटी) आधार पर विकसित किया जाना था और इसे 200 9 तक पूरा करना था. हालांकि, इसे पूरा होने में 15 साल लग गए क्योंकि इसमें कई बार तय समय सीमाका उल्लंघन किया गया .

जून 2012 में, हरियाणा सरकार, दिल्ली सरकार और डेवलपर के बीच बैठक में मई 2013 की एक नई समयसीमा तय की गई थी. हालांकि, निर्माण में देरी के साथ, एचएसआईआईडीसी ने अप्रैल 2012 में कंपनी को दंडित करने का फैसला किया. इसके बाद, मामला अदालत में चला गया और परियोजना को पीछे रख दिया गया.

गौरतलब है कि एक्सप्रेसवे को 2010 में हुए राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान ही शुरू हो जाना था, जिस बात को मुद्दा बनाते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछली सरकारों के काम करने का तरीका अलग था. मोदी ने कहा कि एक्सप्रेसवे को 8 से साल पहले ही सक्रिय हो जाना था लेकिन ऐसा हुआ नहीं. कैग ने अन्य भ्रष्टाचारों की तरह इसमें हो रहे भ्रष्टाचार को पकड़ लिया जिससे इस एक्स्प्रेस वे पर चल रहा काम ठप्प हो गया.

वहीं एक्सप्रेस वे के उद्घाटन से पहले, कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए सवाल किया था, "क्या आने वाले चुनावों पर नजर रखते हुए अधूरे फ्लाईओवर का उद्घाटन किया जा रहा है या फिर इसलिए कि जिससे निजी कंपनी महीने में 26 करोड़ रुपये कमाएंगे?"

यह दावा करते हुए कि फ्लाईओवर अभी अधूरा है, उन्होंने कहा कि सरकार लोगों के जीवन को खतरे में डाल रही है. उन्होंने ट्वीट किया, "आप आधा पूरा केएमपी एक्सप्रेसवे का उद्घाटन क्यों कर रहे हैं और यात्रियों के जीवन को खतरे में डाल रहे हैं। कंसल्टेंट और एचएसआईआईडीसी से मिलने वाला पूर्णता प्रमाण पत्र कहां है? इसे इंजीनियरों द्वारा निरीक्षण किए बिना सञ्चालन के लिए कैसे खोला जा सकता है"?

फ़िलहाल एक्सप्रेस वे परियोजना पर कुल 6,400 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं, जिसके लिए 2,788 करोड़ की लागत से 3,846 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया गया. इस एक्सप्रेस वे का निर्माण एस्सेल इंफ्रा ने रिकॉर्ड समय में पूरा किया है. इसका उद्घाटन तय डेडलाइन से करीब 4 महीने पहले ही हो रहा है.

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# western peripheral expressway # narendra modi # public lokpal # plnews