एस श्रीसंत से हटा आजीवन प्रतिबन्ध, सुप्रीम कोर्ट को BCCI की हिदायत 'फिर से करे विचार'

Reported by lokpal report

15 Mar 2019

35

 


नई दिल्ली: मैच फिक्सिंग के आरोप में आजीवन प्रतिबन्ध का दंश झेल रहे क्रिकेटर एस श्रीसंत को एक बड़ी राहत मिली है। भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को आईपीएल 2013 के स्पॉट फिक्सिंग कांड में उनकी कथित संलिप्तता के कारण पूर्व तेज गेंदबाज पर लगे आजीवन प्रतिबंध को हटा दिया। हालांकि, शीर्ष अदालत ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को सलाह दी है कि इस मामले पर ध्यान देने और तीन महीने के भीतर निर्णय लेने की जरूरत है।

न्यायाधीश अशोक भूषण और केएम जोसेफ ने मामले पर विचार किया कि 36 वर्षीय क्रिकेटर एस श्रीसंत पिछले 5 वर्षों से प्रतिबन्ध झेल रहे हैं। उन्होंने आगे माना कि यह सजा बहुत ही कठोर था।

इससे पहले, श्रीसंत ने अदालत में दावा किया था कि बीसीसीआई द्वारा आजीवन प्रतिबंध पर रोक लगाई जाए। श्रीसंत ने दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाया था कि पुलिस ने उन पर मैच फिक्सिंग में संलिप्तता स्वीकारने के लिए हिरासत में तमाम यातनाएं दी थीं । उन्हें जुलाई 2015 में एक ट्रायल कोर्ट द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया और बाद में उन्हें छोड़ दिया गया।

हालांकि, बीसीसीआई ने अनुशासनात्मक कार्यवाही वापस नहीं ली। श्रीसंत के वकील ने दावा किया था कि उनके मुवक्किल की कोई संलिप्तता नहीं थी और उनके खिलाफ लगाए गए आरोप पर्याप्त नहीं थे।

मई 2013 में राजस्थान रॉयल्स का प्रतिनिधित्व करते हुए, श्रीसंत और उनके साथियों (अंकित चव्हाण और अजीत चंदीला) को दिल्ली पुलिस ने स्पॉट फिक्सिंग के लिए उनकी कथित संलिप्तता के लिए गिरफ्तार किया था। यह घटना भारतीय क्रिकेट के लिए बहुत बड़ा झटका थी जिसने आईपीएल की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठाया था। इसके बाद, सभी तीन खिलाड़ियों को BCCI ने आजीवन प्रतिबंधित कर दिया गया था।

2015 में, श्रीसंत, चंदीला और चव्हाण को दिल्ली के एक ट्रायल कोर्ट द्वारा तीनों की संलिप्तता साबित करने के लिए किसी भी महत्वपूर्ण सबूत के साथ आने में विफल होने के बाद स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों से मुक्त कर दिया गया था। श्रीसंत ने शिकायत की थी कि बीसीसीआई की जांच टीम उन्हें सुनवाई का मौका दिए बिना अंतिम रिपोर्ट के साथ आगे बढ़ गई थी।

श्रीसंत ने अपने निलंबन के बाद से छोटे और बड़े पर्दे पर नज़र आये। वह 2007 के टी 20 विश्वकप और 2011 विश्व कप विजेता टीम के विजयी भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा थे।

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# s srisanth # ipl # match fixing # bcci # public lokpal # plnews