मसूद अज़हर के बचाव में चीन के कदम पर बोले राहुल 'शी जिनपिंग से डर गए मोदी'

Reported by lokpal report

14 Mar 2019

38


 

नई दिल्ली: चीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अज़हर को चौथी बार वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के भारत के अनुरोध पर वीटो करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश नीति पर चौतरफा हमले हो रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने पीएम मोदी की खिंचाई करते हुए उनकी चीन कूटनीति पर सवाल उठाये हैं। कांग्रेस अध्यक्ष ने उन्हें 'कमजोर मोदी ’कहते हुए कहा कि प्रधानमंत्री चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से‘ डरे ’हुए हैं।

एक ट्वीट में, गांधी ने कहा, “कमजोर मोदी शी से डरते हैं। उसके मुंह से एक शब्द भी नहीं निकलता जब चीन भारत के खिलाफ काम करता है। "प्रधानमंत्री का मजाक उड़ाते हुए, कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि मोदी की चीन कूटनीति में केवल" गुजरात में शी के साथ झूला झूलना, दिल्ली में शी को गले लगाना, और चीन में शी के सामने झुकना शामिल है"।

उधर राहुल के इस ट्वीट पर पलटवार करते हुए बीजेपी ने ट्वीट किया कि "चीन यूएनएससी में नहीं होता, अगर आपके नाना ने भारत की कीमत पर उसे सदस्यता न दिलवाई होती''। बीजेपी के आधिकारिक ट्विटर पर पोस्ट किया गया “भारत आपके परिवार की सभी गलतियों का नतीजा भुगत रहा है। आश्वस्त रहें कि भारत आतंक के खिलाफ लड़ाई जीत जाएगा। जबकि आप चीनी दूतों के साथ गुप्त रूप से बैठक करते हैं लेकिन इसे पीएम मोदी पर छोड़ दें। ”

बता दें कि कंधार अपहरण मामले में अजहर की रिहाई को लेकर कांग्रेस लगातार बीजेपी पर हमलावर रही है। इससे पहले राहुल गांधी ने मोदी से देश को यह बताने के लिए कहा कि यह भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार थी जिसने 1999 में अजहर को भारतीय जेल से रिहा किया था और उनके वर्तमान एनएसजी एंजेट डोभाल ने "एस्कॉर्ट" से अज़हर को कंधार ले गए थे।

पिछले दो दशकों से, भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अजहर को एक 'वैश्विक आतंकवादी' के रूप में सूचीबद्ध करने का प्रयास कर रहा है जिसका समर्थन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों में चीन को छोड़कर शेष सभी चारों सदस्यों ने किया है। इससे पहले चीन ने अतीत में तीन बार इस कदम पर वीटो कर दिया और बुधवार को चौथी बार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में एक प्रस्ताव पर तकनीकी रोड़ा डालकर फिर से वीटो कर दिया।

विदेश मंत्रालय ने अपने आधिकारिक बयान में, इस परिणाम पर अपनी "निराशा" व्यक्त की और जोर दिया कि वह मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के लिए सभी संभावित रास्ते की तलाश करता रहेगा। 

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# masood azhar # china # indo-china relationship # jaish e mohammad # narendra modi # rahul gandhi # public lokpal # plnews