सस्ता हुआ घर व ऑटो पर लोन लेना, RBI ने की ब्याज दर में 25 फ़ीसदी की कटौती

Reported by lokpal report

07 Feb 2019

59

 


मुम्बई: गुरुवार को भारतीय रिजर्व बैंक ने मुद्रास्फीति को इसकी लक्ष्य सीमा के भीतर रखने की उम्मीद में बेंचमार्क ब्याज दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती कर दी. केंद्रीय बैंक ने अपनी मौद्रिक नीति के रुख को पहले की 'तीव्रता' को बदलकर 'तटस्थता' में बदल दिया, जिससे ब्याज दरों के प्रति उसके रुख में और भी नरमी आई.

केंद्रीय बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास के कार्यकाल की पहली नीति की समीक्षा में, छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति ने दर में कटौती के पक्ष में 4: 2 से मतदान किया, जबकि नीतिगत रुख बदलने का निर्णय सर्वसम्मत था.

RBI ने हैडलाइन मुद्रास्फीति में अपने अनुमानों में कटौती की है. दिसंबर में यह 18 माह के सबसे निचले स्तर को छूते हुए 2.2 प्रतिशत पर पहुँच गई थी. मार्च तिमाही में इसके 2.8 प्रतिशत, अगले राजकोषीय के पहले हाफ में 3.2-3.4 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2020 की तीसरी तिमाही 3.9 प्रतिशत रहने का अनुमान रखा गया था.

बेंचमार्क ब्याज दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती कर 6.25 प्रतिशत कर दिया गया जो एक ऐसा कदम है जिसके परिणामस्वरूप बैंकों से कर्ज लेना सस्ता हो जाएगा. जिससे व्यक्तिगत व औद्योगिक व्यापार क्षेत्र को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है.

मौद्रिक नीति समिति ने कहा कि "हेडलाइन मुद्रास्फीति निकट भविष्य में नरम रहने का अनुमान है, मुद्रास्फीति का वर्तमान निम्न स्तर और मृदु खाद्य मुद्रास्फीति दृष्टिकोण को दर्शाती है. एमपीसी ने कहा," वित्तीय बाजार में उतार-चढ़ाव और मानसून के परिणामस्वरुप हमें सब्जी व तेल की कीमतों, व्यापार तनाव, स्वास्थ्य और शिक्षा मुद्रास्फीति पर नजर रखने की आवश्यकता है''.

मध्यम अवधि के लिए मुद्रास्फीति को 4 प्रतिशत पर बनाये रखने का अनुमान रखा गया है.

उप-गवर्नर विरल आचार्य और एक अन्य एमपीसी सदस्य, चेतन घाटे ने ब्याज दरों में यथास्थिति के लिए मतदान किया, जबकि दास और तीन अन्य ने ब्याज दरों में कटौती के लिए मतदान किया.

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# reserve bank of india # rbi # shaktikant das # mpc # public lokpal # plnews