तमाम सांसदों के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद घट सकती है मानूसन सत्र की अवधि

Reported by lokpal report

19 Sep 2020

42

 

 
नई दिल्ली: केंद्रीय मन्त्री नितिन गडकरी और प्रहलाद पटेल सहित 30 से अधिक सांसदों के कोरोना संक्रमित होने बाद संसद में कोरोना के प्रसार का खतरा बढ़ गया है। जिसे देखते हुए मानसून सत्र की अवधि के प्रभावित होने की संभावना बढ़ गई है।

सत्र से पहले कोरोना नेगेटिव होने और फिर गुरुवार को कोरोना पॉजिटिव होने वाले भाजपा सांसद विनय सहस्रबुद्धे के मामले से सांसद और भी ज्यादा घबरा गए हैं ।

तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हुए उन सभी सदस्यों से सवाल किया कि सहस्रबुद्धे के संपर्क में आने वाले सदस्यों ने क्या खुद को अलग कर लिया है?। उन्होंने यह भी कहा कि सहस्रबुद्धे ने ट्रेजरी बेंच से एक भाषण दिया था और हाउस लॉबी और सेंट्रल हॉल में समय बिताया होगा।

सूत्रों के अनुसार, लॉक डाउन के दौरान लाये गए विधेयक दोनों सदनों में पारित किये जा सकते हैं हालाँकि सत्र की अवधि घटने के बाद इन विधेयकों को कानून बनने के लिए और छह महीनों का इंतजार करना पड़ सकता है। विपक्ष के कुछ सांसदों ने कहा कि सत्र को मध्यवधि में ही समाप्त करने का अनुरोध किया है।

सदन शनिवार-रविवार को 1 फरवरी को पेश केंद्रीय बजट पर चर्चा करने वाली है। जबकि सरकार ने अनुदानों के लिए पहले से ही पूरक मांगों को पारित कर दिया है, लोकसभा में अभी भी Epidemic Diseases (Amendment) 2020 को रखा जाना शेष है। फिलहाल, 14 सितंबर से शुरू होने वाला सत्र आधिकारिक तौर पर 1 अक्टूबर को समाप्त होना है।

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# coronavirus # covid-19 # parliament monsoon session 2020 # public lokpal # plnews