प्रज्ञा ठाकुर की मुसीबतें बढ़ीं, नाथूराम गोडसे के बयान पर चुनाव आयोग ने माँगा जवाब

Reported by lokpal report

17 May 2019

89

 


नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी की भोपाल लोकसभा की उम्मीदवार और मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर की मुसीबतें फिर से बढ़  गई हैं। भारतीय चुनाव आयोग ने प्रज्ञा के नाथूराम गोडसे के बयान पर रिपोर्ट मांगी है।

बीजेपी की प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने गुरुवार को महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को "देशभक्त" कहते हुए प्रशंसा की थी जिसपर कांग्रेस के सहित पूरे विपक्ष से नाराजगी जताई और निंदा करते हुए आरोप लगाया कि "शहीदों का अपमान करना भाजपा के डीएनए में है"।

विवाद में रहने वाली भाजपा नेता ने मध्य प्रदेश में आगर मालवा में रोडशो के दौरान कहा था कि। “नाथूराम गोडसे एक देशभक्त थे, हैं और रहेगा।

वह अभिनेता-राजनेता कमल हासन की उस टिप्पणी पर एक सवाल का जवाब दे रही थी जिसमे कमल हासन ने नाथूराम गोडसे का सन्दर्भ देते हुए कहा था कि स्वतंत्र भारत का पहला "चरमपंथी एक हिंदू था"।

प्रज्ञा ठाकुर के बयान के बाद विपक्ष तुरंत सक्रिय हो गया और भाजपा को निशाने पर ले लिए। जिसपर भाजपा तुरंत हरकत में आ गई और ठाकुर के बयान से खुद को दूर कर लिया और उसे सार्वजनिक माफी मांगने के लिए कहा, जो उसने किया। ठाकुर ने कहा, "मेरा इरादा किसी को चोट पहुंचाना नहीं था। अगर इससे किसी को दुख पहुंचा है, तो मैं माफी मांगती हूं।"

भाजपा और ठाकुर पर हमला करते हुए, कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, "यह स्पष्ट है, भाजपा के लोग गोडसे के वंशज हैं। भाजपा के लोग कहते हैं कि गोडसे एक देशभक्त थे और शहीद हेमंत करकरे देशद्रोही थे। हिंसा की संस्कृति और शहीदों का अपमान करना भाजपा के डीएनए में है।" 

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# nathuram godse # pragya singh thakur # mcc # general elections 2019 # public lokpal # plnews