यूपी-बिहारियों के पलायन ने बिगाड़ा गुजरात के उद्योगों का समीकरण

Reported by lokpal report

09 Oct 2018

129

 

 
गांधीनगर: उत्तर गुजरात के साबरकंठा जिले में 14 माह की एक लड़की के बलात्कार के बाद राज्य में हिंदी भाषी लोगों के खिलाफ बड़े पैमाने पर भड़की हिंसा ने अपराधों को जन्म दे दिया है. एक दैनिक अंग्रेजी अख़बार की रिपोर्ट से संकेत मिलता है कि यूपी और बिहार के प्रवासियों पर हमले या हमले की धमकी के बाद हजारों की तादाद में ये प्रवासी अपने गृह राज्य वापस लौट रहे हैं.

अब तक जहाँ बिहार और यूपी के प्रवासियों पर हमलों के 56 मामले दर्ज किये गए हैं वहीं रिपोर्ट के अनुसार 431 लोगों को हिंसा करने या हिंसा को उकसाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है.

गुजरात से बड़े पैमाने पर इन प्रवासियों के पलायन औद्योगिक क्षेत्र को बुरी तरह प्रभावित किया है और इसके परिणामस्वरूप त्योहारों के मौसम से पहले 20 फीसदी उत्पादन का नुकसान हुआ है. 

हालाँकि सूरत, कच्छ, मोरबी, जामनगर और राजकोट जैसे कुछ औद्योगिक केंद्र अब तक अप्रभावित रहे हैं, फिर भी सरकार स्थिति को नियंत्रित करने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान कर रही है. यहाँ यह गौरतलब है कि राज्य से बड़े पैमाने पर हो रहे पलायन के कारण राज्य में सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले उद्योग आभूषण और वस्त्र उद्योग हैं.

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# sabarkantha rape case # migrations from gujarat # public lokpal # plnews