छात्रों के विरोध प्रदर्शन के बाद झुका जेएनयू प्रशासन, हॉस्टल शुल्क में की आंशिक कमी

Reported by lokpal report

13 Nov 2019

79


नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय ने बुधवार को कुलपति एम जगदीश कुमार की अध्यक्षता में एक कार्यकारी समिति की बैठक के बाद हॉस्टल शुल्क वृद्धि को आंशिक रूप से वापस ले लिया। यह फैसला सोमवार से चल रहे जेएनयू के छात्रों के विरोध प्रदर्शन के बाद आया है, जिसमे पुलिस और छात्रों में जोरदार झड़प हुई थी।

एचआरडी अधिकारियों ने यह भी कहा कि जेएनयू ने आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों को आर्थिक सहायता के लिए एक योजना का प्रस्ताव दिया गया है।

जेएनयू के छात्र प्रस्तावित हॉस्टल मैनुअल को वापस लेने की मांग कर रहे हैं जिसमें 1,700 रुपये का सेवा शुल्क लगाया गया था और एकमुश्त मेस सिक्योरिटी शुल्क, जो कि रिफंडेबल है, को 5,500 रुपये से बढ़ाकर 12,000 रुपये कर दिया गया था। सिंगल-सीटर रूम का किराया 20 रुपये प्रति माह से बढ़ाकर 600 रुपये प्रति माह कर दिया गया है, जबकि डबल-सीटर रूम का किराया 10 रुपये प्रति माह से बढ़ाकर 300 रुपये प्रति माह कर दिया गया है।

अब नया शुल्क इस प्रकार है

  • कमरे का किराया (सिंगल)- 200 रुपये
  • कमरे का किराया (डबल) : 100 रुपये
  • कॉशन डिपाजिट: 5,500 रुपये
  • सेवा शुल्क : वास्तविक के अनुसार
  • उपयोगिता शुल्क: 1700 रुपये
     

इंटर-हॉल प्रशासन द्वारा अनुमोदित ड्राफ्ट हॉस्टल मैनुअल में हॉस्टल शुल्क वृद्धि, ड्रेस कोड और 'कर्फ्यू' यानी प्रतिबंधित समय के दौरान विश्विद्यालय बाहरी परिसर में घूमने पर रोक के प्रावधान भी हैं।

इससे पहले, छात्रों ने विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह स्थल एआईसीटीई भवन का घेराव किया था जिसके कारण केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल छह घंटे से अधिक समय तक फंसे रहे।

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# jnu # jnu fees hike # public lokpal # plnews