सीबीआई के पूर्व मुखिया आलोक वर्मा ने नई पोस्ट सँभालने से किया इंकार, दे दिया इस्तीफ़ा

Reported by lokpal report

11 Jan 2019

106

 


नई दिल्ली: सीबीआई के पूर्व प्रमुख आलोक वर्मा ने अग्निशमन सेवा के महानिदेशक का पदभार संभालने से इनकार कर दिया और अपना इस्तीफा दे दिया. उनके द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, "प्राकृतिक न्याय को ख़त्म कर दिया गया. और इसे सुनिश्चित करने के लिए पूरी प्रक्रिया को उल्टा कर दिया गया जिसके बाद मुझे निदेशक के पद से हटा दिया गया''. प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में एक उच्चस्तरीय समिति ने गुरुवार को आलोक वर्मा को सीबीआई निदेशक पद से बर्खास्त कर फायर सर्विसेज व होमगॉर्ड सुरक्षा महानिदेशक बना दिया था. सुप्रीम कोर्ट द्वारा सीबीआई के निदेशक के रूप में वर्मा को बहाल किए जाने के एक दिन बाद चयन समिति का यह फैसला आया.

अपने इस्तीफे में, वर्मा ने कहा कि वह निदेशक के रूप में सरकार की सेवा कर रहे थे और डीजी फायर सर्विसेज, सिविल डिफेंस और होम गार्ड्स ’के लिए आवश्यक आयु सीमा को वह पहले ही 31 जुलाई, 2017 को पार कर चुके थे. उन्होंने कहा है कि सीबीआई निदेशक के रूप में उनकी भूमिका एक 'निश्चित कार्यकाल' थी.

उन्होंने कहा कि "चयन समिति ने इस तथ्य पर विचार नहीं किया कि पूरी सीवीसी रिपोर्ट में उस शिकायतकर्ता द्वारा आरोपों को आधार बनाया गया है जो स्वयं वर्तमान में सीबीआई द्वारा जांच के अधीन है. यह ध्यान दिया जा सकता है कि सीवीसी ने केवल शिकायतकर्ता और शिकायतकर्ता के एक कथित रूप से हस्ताक्षरित बयान को आगे बढ़ाया. वर्मा ने पत्र में कहा कि सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति एके पटनायक (जांच का पर्यवेक्षण) से पहले कभी नहीं आए. इसके अलावा, न्यायमूर्ति पटनायक ने कहा कि रिपोर्ट के निष्कर्ष / निष्कर्ष उनके नहीं हैं.

उन्होंने आगे कहा कि "कल का फैसला न केवल मेरे कामकाज पर प्रतिबिंब होगा, बल्कि इस बात का प्रमाण बनेंगे कि किसी संस्था के रूप में CBI को CVC के माध्यम से किसी भी सरकार द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है''.

(पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर । LIKE कीजिये PUBLICLOKPAL का फेसबुक पेज)

निम्नलिखित टैग संबंधित खबरें पढ़े :

# cbi # cbi vs cbi # alok verma # public lokpal # plnews